अँग्रेजी कोई भूत नहीं है – English Guru Chapter 1

Learning English is Easy
Learning is made easy with English Guru

इस श्रंखला का उद्देश्य English को एक भूत समझने वाले लोगों के बीच विश्वास पैदा करना है। यह कितना कारगर होगा यह तो बताना मुश्किल है लेकिन एक बात है कि इस श्रंखला को पूरा देख लेने के बाद आपको English एक भूत नहीं लगेगा।

इसके पहले कि हम अपनी यह यात्रा शुरू करें आइये हम आपको English की महत्ता के बारें में थोड़ा बताएं । शायद मुझे यह तो बताने की ज़रूरत नहीं है कि English कितने काम कि भाषा है । किन्तु हमारे आस पास में ऐसे लोग भी हैं जो सिर्फ अपनी भाषा से ही प्रेम करते हैं तथा अन्य भाषाओं को सम्मान देना पसंद नहीं करते हैं । किन्तु यह अत्यंत दुख का विषय है कि भाषाओं के साथ इस प्रकार का भेद भाव किया जाता है । भाषा तो एक माध्यम है अपने विचारों को एक दूसरे तक पहुंचाने का ।  सोचिए कि यदि भाषा का विकास नहीं होता तो आज क्या दशा होती । शायद हम भी जानवरों के भांति मूक बने रहते ।  मेरा मानना है कि विश्व मे समस्त भाषाओं का अपना महत्व है ।  समस्त भाषाओं को बराबर सम्मान देना चाहिए । चाहे वो हिन्दी हो, तमिल हो, बंगाली हो, अंग्रेजी हो अथवा अन्य कोई भी भाषा ।

भारत जैसे देश में अंग्रेजी भाषा का चलन बढ़ाने का श्रेय अंग्रेजों को दिया जाता है । इसके पहले भी जितने भी विदेशी आक्रमण भारत में हुये हैं उन सब से हमें नयी भाषाएँ मिली हैं । उदाहरण के लिए अंग्रेज़ो द्वारा अंग्रेजी लाने से पूर्व मुगल एवं मुस्लिम साम्राज्यों द्वारा भारत में फारसी, अरबी, तथा उर्दू भाषाओं का चलन हुआ । इसके पहले भी भारत में अनेक भाषाओं का उदभव अथवा विकास होता रहा है । अंग्रेज़ो ने ना सिर्फ भारत अपितु समस्त विश्व को अपना उपनिवेश केन्द्र बना लिया था ।  और इसी लिए अंग्रेजी लगभग विश्व के समस्त भागों में जानी और बोली जाने लगी ।  किन्तु ऐसा नहीं है कि सिर्फ अंग्रेजी ही विश्व के अन्य भागों में पहुंची ।  बल्कि अन्य समस्त आक्रमणकारी अपने साथ अपनी भाषाएँ विश्व के अन्य भागों में ले गए । किन्तु उनका चलन बढ़नें से पूर्व ऐसे साम्राज्यों का पतन हो गया । और इसी कारण बाद में अंग्रेजी ही एक ऐसी भाषा के रूप में उभरी जो विश्व के लगभग समस्त भागो मे जानी अथवा बोली जाती थी ।

अंग्रेजी के इस तरह के चलन से एक बात तो यह अच्छी हो गयी कि अब विश्व के लोगों को एक उभयनिष्ठ (common) भाषा मिल गयी जिस से एक दूसरे से संपर्क करना सरल हो गया । और इस से एक देश का ज्ञान विज्ञान दूसरे देशों तक पहुंचाना सरल हो गया ।  यह प्रक्रम आज भी जारी है । आज भी अंग्रेजी भाषा ही विश्व के समस्त लोगों को एक साथ जोड़े रखने मे एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है ।